देश-दुनिया

2जी घोटाला : CBI की विशेष अदालत में सभी 19 अरोपी बरी

डिजाइन फोटो।

नई दिल्ली। यूपीए सरकार के दौरान हुए करोंड़ों के टूजी घाटाले के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और डीएमके नेता करुणानिधी की बेटी कनीमोई सहित सभी 19 आरोपियों को बरी कर दिया। इस फैसले को लेकर कोर्ट का कहना है कि सरकारी वकील आरोप साबित नहीं कर पाए हैं।

इस मामले की सुनवाई कर रहे सीबीआई के विशेष न्यायाधीश ओपी सैनी ने सीबीआई और ईडी द्वारा दर्ज कराए गए अलग-अलग मामलों में फैसला सुनाया है। टूजी स्पैक्ट्रम घोटाले में सुनवाई छह साल पहले 2011 में शुरू हुई थी, जब अदालत ने 17 आरोपियों के खिलाफ आरोप तय किये थे।

सीबीआई स्पेशल कोर्ट के इस फैसले को लेकर कांग्रेस ने खुशी जाहिर की है। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि आज मेरी बात साबित हो गई, कोई घोटाला नहीं हुआ और न ही कोई नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि अगर घोटाला है तो झूठ का घोटाला है, विनोन राय के झूठ का और इसके लिए विनोद राय को देश से माफी मांगनी चाहिए।

सीबीआई द्वारा दायर पहले मामले में राजा और कनिमोई के अलावा पूर्व दूरसंचार सचिव सिद्धार्थ बेहुरा, राजा के पूर्व निजी सचिव आर के चंदोलिया, स्वान टेलीकाम प्रमोटर शाहिद उस्मान बलवा और विनोद गोयनका, यूनीटेक लिमिटेड एमडी संजय चंद्रा और रियालंस अनिल धीरूभाई अंबानी समूह के तीन शीर्ष कार्यकारी अधिकारी गौतम दोशी, सुरेंद्र पिपारा और हरि नायर आरोपी थे।

सीबीआई स्पेशल कोर्ट के इस फैसले को लेकर भाजपा के राज्य सभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि यह फैसला सही नहीं है और इस फैसले को उच्च अदालत में चुनौती दी जानी चाहिए।

Topics


Pin It on Pinterest

Share This